मेरा भविष्य !

पापा उसे अपना भविष्य बुलाते हैं!  क्या दीदी और मैं पापा का भविष्य नहीं बन सकते थे?  क्या हम बहनें पापा मम्मी के परिवार को पूरा नहीं कर सकती थीं?  जब तक छोटा नहीं आया था , क्यूँ हर Aunty आकर मेरी mummy को लड़का होने का उपाय बताती थीं?  मैं चुप चाप सुनती थी... Continue Reading →

The ‘Lifafe’ ki rat race!

When you hit the dawn of adulthood , and marriage knocks on your door , you innocently open to embrace love but what you get is a Pandora's box of endless , senseless and useless rituals and responsibilities which the Indian parent has very carefully passed on from one moronic generation to another . One... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑